लिंग - xbook.in

लिंग

          लिंग         

लिंग का शाब्दिक अर्थ है - चिन्ह 

 लिंग के प्रकार -  लिंग दो प्रकार के होते हैं 

1.पुल्लिंग                    2.स्त्रीलिंग 

1.पुल्लिंग - पुरुष जाति का बोध होता है | 

  • सभी दिनों के नाम, सभी वृक्षों के ,सभी पर्वतों के नाम ,सभी नक्षत्र ,ग्रह ,दिशा पुल्लिंग होते हैं |
  • किडनी और नस को छोड़कर शरीर के सभी अंग पुल्लिंग होते हैं | 
  • चांदी, मोती छोड़कर सभी धातुएं पुल्लिंग होते हैं |
  • पृथ्वी अपवाद स्वरूप स्त्रीलिंग है |
  • एरा, दान, वाला, खाना, बाज,वान तथा शील प्रत्यय वाले शब्द पुल्लिंग होते हैं | जैसे - सपेरा, लुटेरा, खानदान, दूधवाला, धोखेबाज, बलवान, सुशील इत्यादि 
  • अर्थी तथा दाता प्रत्यय वाले शब्द पुल्लिंग होते हैं | जैसे - विद्यार्थी, मतदाता, रक्तदाता, अभ्यर्थी |
  • कुछ महत्वपूर्ण पुलिंग शब्द -आत्मा, मन, प्राण, वायु, दर्शन, पानी आदि |

2.स्त्रीलिंग -  स्त्री जाति का बोध होता है  | 

  • सभी लिपि, नदी, ऋतुएं स्त्रीलिंग है | जैसे - देवनागरी, गंगा, यमुना आदि |


पुल्लिंग                   स्त्रीलिंग

लेखक                    लेखिका 

कवि                      कवियत्री 

सम्राट                    सम्राज्ञी 

राजा                      रानी 

सिंह                       सिंहनी 

हाथी                       हथनी 

मेंढक                     मेंढकी

No comments